PM Kisan Samman Nidhi के साथ मिलेंगे 3 लाख रुपए, जानें पूरी जानकारी

पीएम किसान सम्मान निधि योजना से जुड़े हर किसान का बनेगा क्रेडिट कार्ड

केंद्र सरकार की पीएम किसान सम्मान निधि योजना किसानों के बीच लोकप्रिय योजना है। इस योजना की खास बात ये हैं कि इस योजना के तहत सरकार की ओर से हर साल 6 हजार रुपए किसानों के खाते में ट्रांसफर किए जाते हैं। इससे किसानों को काफी सहायता मिलती है। किसानों को पीएम किसान सम्मान निधि के लाभ के साथ सरकार उन्हें तीन लाख रुपए ऋण भी प्रदान करेगी। 

इसके लिए सरकार ने इस योजना से जुड़े किसानों के क्रेडिट कार्ड बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। क्रेडिट कार्ड बनाने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान का नाम किसान भागीदारी, प्राथमिकता हमारी है। इस अभियान के तहत शिविर लगाकर किसानों को क्रेडिट कार्ड प्रदान किए जा रहे हैं। इन शिविरों के माध्यम से पीएम किसान सम्मान निधि से जुड़े हर किसान का क्रेडिट कार्ड बनाया जाएगा। बता दें कि किसान भागीदारी, प्राथमिकता अभियान 25 अप्रैल से शुरू हो चुका है और 30 अप्रैल तक चलेगा। इस अभियान के तहत किसान भाई अपना क्रेडिट कार्ड बनवा सकते हैं। 

किसान क्रेडिट कार्ड से मिलता है 3 लाख रुपए तक का ऋण

किसानो को क्रेडिट कार्ड के माध्यम से तीन लाख रुपए तक का ऋण सहकारी बैंक के माध्यम से मिल सकता है। इस पर ब्याज दर भी काफी कम होती है। ये ऋण लंबी अवधि के होते हैं ताकि किसान इसे आसानी से चुका सकें। बता दें कि किसान क्रेडिट कार्ड से मिलने वाला ऋण पर ब्याज दर इसलिए कम होती है क्योंकि इस ऋण पर सरकार की ओर से ब्याज पर सब्सिडी प्रदान की जाती है जिससे ब्याज की दर कम हो जाती है। 

किसान क्रेडिट कार्ड से ऋण लेने पर कितना देना होता है ब्याज

वैसे किसान क्रेडिट कार्ड से ऋण पर 9 प्रतिशत की दर से ब्याज वसूला जाता है। लेकिन आप समय पर ऋण चुका देते हैं तो आपको ब्याज में 3 प्रतिशत की छूट मिल जाती है। इसके अलावा केंद्र सरकार की ओर से 2 प्रतिशत सब्सिडी दी जाती है। यदि आप समय पर ऋण चुका देते हैं तो आपको 3 प्रतिशत प्रोत्साहन राशि दी जाती है। इस तरह केसीसी से आपको 4 प्रतिशत ब्याज पर ऋण उपलब्ध हो जाता है। बता दें कि केसीसी से मिलने वाला यह लोन देश का सबसे सस्ता लोन होता है। 

किसान इन कार्यों के लिए ले सकते हैं केसीसी से ऋण

किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से किसान अपनी कई आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए ऋण ले सकते हैं। जिन कार्यों के लिए ऋण केसीसी पर उपलब्ध होता है वे इस प्रकार से हैं-

  • फसलों की खेती के लिए अल्पकालिक ऋण आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए
  • फसल कटाई के बाद के लिए खर्च
  • उपज विपणन ऋण
  • किसान परिवार की खपत की आवश्यकताएं
  • कृषि परिसम्पत्तियों और कृषि संबंधित गतिविधियों के रख-रखाव के लिए कार्यशील पूंजी
  • इसके अलावा कृषि और सम्बद्ध गतिविधियों के लिए निवेश ऋण की आवश्यकता।

केसीसी बनवाने के लिए नहींं देना होगा कोई शुल्क

किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) बनवाना पहले से आसान हो गया है। केंद्र सरकार के निर्देश पर इंडियन बैंकर एसोसिएशन ने केसीसी बनाने की प्रोसेसिंग फीस, इंस्पेक्शन, लेजर फोलियो, रिनुअल फीस और नए केसीसी जारी करने के लिए सभी अन्य सर्विस चार्ज समाप्त कर दिए हैं। इस तरह किसानों को केसीसी बनवाने के लिए किसी प्रकार का कोई शुल्क नहीं देना होगा।

अब तक कितने किसानों के बनाए जा चुके हैं केसीसी

किसान क्रेडिट कार्ड योजना 1998 में शुरू की गई थी। इससे मिलने वाला के्रेडिट कार्ड से किसानों को बैंक से सस्ता लोन मिल जाता है। अब तक देश के करीब 3.05 करोड़ किसानों के पास क्रेडिट कार्ड हैं। शेष किसानों के के्रडिट कार्ड बनाने के लिए सरकार ने देश व्यापी अभियान चलाया हुआ है। बता दें कि पीएम किसान निधि योजना से देश के करीब 11.30 करोड़ किसानों को लाभ मिल रहा है। अब पीएम किसान सम्मान निधि योजना से जुड़े शेष किसानों यानि 8.25 किसानों के पास के्रडिट कार्ड नहीं है। इसलिए सरकार अभियान चलाकर सभी किसानों का क्रेडिट कार्ड बनाना चाहती है ताकि देश के सभी किसानों को सस्ता बैंक लोन उपलब्ध हो सकें। 

क्या है केंद्र सरकार ‘किसान भागीदारी, प्राथमिकता हमारी’ अभियान

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय भारत सरकार के विभिन्न अन्य मंत्रालयों/विभागों के सहयोग से ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के हिस्से के रूप में 25 से 30 अप्रैल, 2022 तक ‘किसान भागीदारी, प्राथमिकता हमारी‘ अभियान का आयोजन कर रहा है। इस अभियान के दौरान कृषि एवं किसान कल्याण विभाग किसानों के लिए क्षेत्रीय स्तर पर राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम आयोजित करेगा। इस अभियान के दौरान शिविर लगाकर किसानों के क्रेडिट कार्ड बनाए जा रहे हैं। 

किसानों को दी जाएगी इन योजनाओं की जानकारी

किसान भागीदारी प्राथमिक हमारी अभियान के दौरान भारत सरकार की विभिन्न प्रमुख योजनाओं किसानों के लिए लाभकारी योजनाओं की जानकारी दी जाएगी। इनमें प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना- प्रति बूंद अधिक फसल, प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना, किसान क्रेडिट कार्ड, कृषि ऋण, ई-राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-एनएएम), किसान उत्पादक संगठन (एफपीओ), मृदा स्वास्थ्य कार्ड, जैविक और प्राकृतिक खेती, पौध संरक्षण और पौध संगरोध, मधुमक्खी पालन, फार्म मशीनीकरण, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन, बीज और रोपण सामग्री, बागवानी के समेकित विकास पर मिशन, विस्तार सुधार (एटीएमए), आरकेवीवाई- रफ्तार- कृषि स्टार्ट-अप आदि योजनाओं की जानकारी किसानों को दी जाएगी।

Leave a Comment