E Shram Card Next Instalment:श्रमिकों को मिलेगी 3000/माह जाने कैसे ?

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now

ई श्रम योजना श्रमेव जयते :  जैसा कि नाम  से पता चलता है , यह हाल ही में श्रम और रोजगार मंत्रालय द्वारा शुरू की गई एक योजना है , जिसके तहतकेंद्र सरकार द्वारा असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को दिया जाता है। ई-श्रम योजना केतहत  देश के लगभग 43.7 करोड़ असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के आश्रम कार्ड तैयार किए जाएंगे, जिसके माध्यम से उन्हें प्रत्यक्ष लाभ दिया जाएगा। केंद्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई योजनाओं का लाभ  ई श्रम पोर्टल ई श्रम कार्ड सरकार।

श्रम और रोजगार मंत्रालय, जो भारत सरकार के सबसे पुराने और महत्वपूर्ण मंत्रालयों में से एक है, श्रमिकों के हितों की रक्षा और सुरक्षा, कल्याण को बढ़ावा देने और सामाजिक सुरक्षा प्रदान करके देश के श्रम बल के जीवन और सम्मान में सुधार के लिए लगातार काम कर रहा है।संगठित और असंगठित दोनों क्षेत्रों में श्रम बल के लिए , जो श्रमिकों की सेवा और रोजगार के नियमों और शर्तों को विनियमित करते हैं।

तदनुसार, श्रम और रोजगार मंत्रालय ने असंगठित श्रमिकों (एनडीयूडब्ल्यू) का एक राष्ट्रीय डेटाबेस बनाने के लिए ईएसएचआरएम पोर्टल विकसित किया है , जिसे आधार के साथ जोड़ा जाएगा। इसमें नाम, व्यवसाय, पता, शैक्षिक योग्यता, कौशल प्रकार और परिवार के विवरण आदि का विवरण होगा ताकि उनकी रोजगार योग्यता की अधिकतम प्राप्ति हो सके और उन्हें सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के लाभों का विस्तार किया जा सके। यह प्रवासी श्रमिकों, निर्माण श्रमिकों, गिग और प्लेटफॉर्म श्रमिकों आदि सहित असंगठित श्रमिकों का पहला राष्ट्रीय डेटाबेस है।

ई-श्रम योजना क्या है?

केंद्र सरकार द्वारा चलाई गई ई-श्रम योजना  वास्तव में एक ऐसी योजना है जो देश के हर क्षेत्र में श्रमिकों का डेटा एकत्र करने का काम करेगी, वास्तव में यह  एक राष्ट्रीय डेटाबेस ( गैर-वर्गीकृत श्रमिकों का राष्ट्रीय डेटाबेस )  है, जिसके तहत इसके बारे में पूरी जानकारी होगी। असंगठित क्षेत्र के कामगार उपलब्ध होंगे। आश्रम कार्ड योजना के तहत पंजीकृत होने के बाद   , असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को केंद्र सरकार यानि राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई किसी भी योजना के सुचारू संचालन में मदद की जाएगी, जो इन लोगों को प्रत्यक्ष लाभ दे सके, जिससे कि श्रमिकों असंगठित क्षेत्र को मिलेगा सीधा लाभ और आपको जल्द लाभ मिलेगा।

ईश्रम योजना हाइलाइट्स

योजना नाम ईई श्रम योजना
शुरू किया गयाकेंद्र सरकार द्वारा
संबंधित विभागश्रम और रोजगार मंत्रालय
लाभार्थीदेश के सभी असंगठित क्षेत्र के श्रमिक
लाभपंजीकरण के बाद सभी सरकारी योजनाओं का सीधा लाभ
उद्देश्यराष्ट्रीय स्तर पर असंगठित क्षेत्र के कामगारों की दा ताबेज एकत्रित करना
आवेदन का प्रकारऑनलाइन/ऑफलाइन के माध्यम से
योजना लॉन्च एच वर्ष2022
आधिकारिक वेबसाइटयहाँ क्लिक करें

असंगठित क्षेत्र क्या है और इसमें किस तरह के लोग शामिल हैं?

सरल शब्दों में कहें तो संगठित क्षेत्र का अर्थ है एक ऐसा क्षेत्र जिसका कोई संगठन नहीं है, यानी सरल शब्दों में कहें तो आपको काम करने के लिए किसी प्रकार का वेतन नहीं मिल रहा है , आप किसी ऐसे काम से जुड़े हैं जिसके तहत आपको हमेशा काम नहीं मिलता है। रहते थे। संगठित क्षेत्र में निजी या सार्वजनिक क्षेत्र के श्रमिक शामिल हैं जो नियमित वेतन, वजीफा या अन्य लाभ प्राप्त करते हैं जिसमें भविष्य निधि और उपदान के रूप में छुट्टी और सामाजिक सुरक्षा शामिल है। यानी अगर आप संगठित क्षेत्र से आते हैं तो  ई-श्रम योजना के तहत आप पहले लाभार्थी नहीं हो सकते हैं  और आपको इसका लाभ नहीं मिलेगा।

असंगठित क्षेत्र में श्रमिकों के कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं
️छोटे और सीमांत किसान️ कृषि मजदूर️ शेरक्रॉपर्स️ मछुआरा️ पशुपालन में लगे लोग️बीड़ी रोलिंग️ लेवे एल आईएनजी और पैकिंग️ भवन और निर्माण श्रमिक️चमड़े के मजदूर️ बुनकर️ आवर्धित️नमक कार्यकर्ता️ईट भट्ठों और पत्थर की खदानों में काम करने वाले मजदूर️ आरी मिल मजदूर

NDUW क्या है? , ई-श्रम कार्ड क्या है

NDUW  का  पूरा नाम  अवर्गीकृत श्रमिकों का राष्ट्रीय डेटाबेस है  ,  श्रम और रोजगार मंत्रालय असंगठित श्रमिकों का  एक राष्ट्रीय डेटाबेस तैयार कर रहा है , जिसके तहत  आश्रम पोर्टल  विकसित किया गया है और  UAN कार्ड योजना  शुरू की गई है।

  • श्रम और रोजगार  मंत्रालय असंगठित कामगारों का राष्ट्रीय डेटाबेस तैयार कर रहा है।
  • ️ वेबसाइट पर असंगठित श्रमिकों के पंजीकरण की सुविधा है।
  • ️ प्रत्येक  यूडब्ल्यू (अवर्गीकृत कार्य)  को एक पहचान पत्र जारी किया जाएगा जो एक विशिष्ट पहचान संख्या होगी, जो  यूएएन कार्ड, एनडीयूडब्ल्यू कार्ड, आश्रम कार्ड  जाएगा।

ई श्रम योजना पोर्टल के लाभ और विशेषताएं

  • श्रम पोर्टल 26 अगस्त 2022 को केंद्रीय रोजगार मंत्री श्री भूपेंद्र यादव जी द्वारा लॉन्च किया गया था ।
  • इस पोर्टल पर देश के लगभग 476 करोड़ असंगठित क्षेत्र के कामगारों का डेटाबेस उपलब्ध होगा, जिसका इस्तेमाल केंद्र सरकार जरूरत पड़ने पर कर सकती है।
  • ️ देश के सभी पंजीकृत श्रमिकों और संगठित क्षेत्र से सभी प्रकार के सरकारी लाभ और सरकारी योजनाओं का लाभ दिया जाएगा, जिसके लिए उन्हें फिर से पंजीकृत होने की आवश्यकता नहीं होगी।
  • ️  ई-  श्रम  योजना के तहत  मजदूरों और घरेलू कामगारों को आपस में जोड़ा जाएगा और उन्हें हर तरह से विकसित करने का काम किया जाएगा।
  • ️   सभी पंजीकृत श्रमिकों का ई  – श्रम कार्ड ई-श्रम  पोर्टल  पर बनेगा, जिसमें 12 अंकों का यूनिट नंबर होगा।
  • ई श्रम पोर्टल  पर पंजीकृत होने के बाद  12 बिन्दुओं की श्रमिक इकाई संख्या में  ई  -लेबर कार्ड नंबर  प्रदान किया जाएगा जो पूरे देश में मान्य होगा।
  • ️  UAN कार्ड बनने के बाद  सभी श्रमिकों को उनके कार्य और कौशल के आधार पर वितरित किया जाएगा ताकि सरकार उन्हें आसानी से रोजगार प्रदान कर सके।
  • केंद्र सरकार को एनडीयूडब्ल्यू कार्ड  के आधार पर विभिन्न प्रकार की आधिकारिक योजनाओं को शुरू करने के लिए श्रमिकों के डेटाबेस और संचालन में मदद मिलेगी।

यूएएन कार्ड योजना के उद्देश्य

UAN Card योजना का उद्देश्य   राज्य के हर असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों का डेटा एकत्र करना है ताकि जब भी केंद्र सरकार कोई योजना बनाना चाहे, तो उनके पास पहले से ही संबंधित मजदूर की जानकारी हो ताकि वे आसानी से योजना बना सकें। और असंगठित क्षेत्र में इसका लाभ उठाएं । श्रमिकों के लिए आसान पहुँच ।

राज्यवार ई श्रमिक कार्ड

ई श्रमिक आंध्र प्रदेशयहां मिलता है
ई श्रमिक असमयहां मिलता है
ई श्रमिक अरुणाचलयहां मिलता है
ई श्रमिक बिहारयहां मिलता है
ई श्रमिक छत्तीसगढ़यहां मिलता है
ई श्रमिक चंडीगढ़यहां मिलता है
ई श्रमिक दिल्लीयहां मिलता है
ई श्रमिक गोवायहां मिलता है
ई श्रमिक गुजरातयहां मिलता है
ई श्रमिक हरियाणायहां मिलता है
ई श्रमिक एचपीयहां मिलता है
ई श्रमिक झारखंडयहां मिलता है
ई श्रमिक जम्मूयहां मिलता है
ई श्रमिक कश्मीरयहां मिलता है
ई श्रमिक केरलयहां मिलता है
ई श्रमिक कर्नाटकयहां मिलता है
ई श्रमिक एमपीयहां मिलता है
ई श्रमिक महाराष्ट्रयहां मिलता है
ई श्रमिक ओडिशायहां मिलता है
ई श्रमिक पंजाबयहां मिलता है
ई श्रमिक राजस्थानयहां मिलता है
ई श्रमिक तेलंगानायहां मिलता है
ई श्रमिक तमिलनाडुयहां मिलता है
ई श्रमिक यूपीयहां मिलता है
ई श्रमिक उत्तराखंडयहां मिलता है
ई श्रमिक पश्चिम बंगालयहां मिलता है
Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Join Channel