क्रिप्टोकरेंसी क्या है? इसके बारे में विस्तार से जाने।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है, दोस्तों हम क्रिप्टोकरेंसी के बारे में आज के समय में हमेशा सुनते आ रहे है, और इसका महत्व भी बढ़ता जा रहा है, आज के समय में क्रिप्टोकरेंसी को अनदेखा नहीं किया जा सकता है, दुनिया भर की नजर इस पर है, और वो अपनी अपनी योजना भी बना रहे है, आज हम अपने इस ब्लॉग के जरिये इसके बारे में जानते है.

क्रिप्टोकरेंसी की बात करे तो सबसे पहले नाम आता है बिटकॉइन का, बिटकॉइन की उत्पत्ति स्पष्ट नहीं है, जैसे कि इसकी स्थापना किसने की थी। कहा जाता है कि एक व्यक्ति या लोगों का एक समूह, जो सातोशी नाकामोतो की पहचान से जाना गया था, ने वर्ष 2008 के वित्तीय संकट के बाद इस लेखा प्रणाली की अवधारणा प्रस्तुत की थी।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है इसके बारे में विस्तार से जाने।

वर्ष 2008 में बिटकॉइन की शुरुआत से पहले वर्ष 2017 में सभी क्रिप्टोकरेंसी का कुल बाज़ार केवल 20 बिलियन डॉलर था जो अगले तीन वर्षों में बढ़कर 289 बिलियन डॉलर हो गया और उसके बाद नवंबर 2021 में 2.9 ट्रिलियन डॉलर के शिखर पर पहुँच गया।पिछले तीन महीनों में इसमें एक बार फिर तेज़ गिरावट देखने को मिली है. भारतीय अर्थव्यवस्था का सम्पूर्ण नोट्स हिंदी में पढ़े

क्रिप्टोकरेंसी क्या है?

क्रिप्टोकरेंसी, जिसे कभी-कभी क्रिप्टो-मुद्रा या क्रिप्टो कहा जाता है, मुद्रा का एक ऐसा रूप है जो डिजिटल या वस्तुतः मौजूद है और लेन-देन को सुरक्षित करने के लिये क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करती है। लेन-देन रिकॉर्ड रखने और नई इकाइयाँ जारी करने या इसे विनियमित करने वाला कोई प्राधिकरण नहीं है, इसके स्थान पर यह विकेंद्रीकृत प्रणाली का उपयोग करती है। यह एक विकेंद्रीकृत पीयर-टू-पीयर नेटवर्क द्वारा समर्थित है जिसे ब्लॉकचेन कहा जाता है।

ब्लॉकचेन तकनीक क्या है?

ब्लॉकचेन तकनीक सुनिश्चित करती है कि क्रिप्टोकरेंसी में सभी लेन-देन एक सार्वजनिक वित्तीय लेन-देन डेटाबेस में दर्ज किये जाते हैं।
बिटकॉइन, एथेरियम, रिपल क्रिप्टोकरेंसी के कुछ उल्लेखनीय उदाहरण हैं। ब्लॉकचेन का नाम डिजिटल डेटाबेस या लेजर से लिया गया है जहाँ जानकारी “ब्लॉक” के रूप में संग्रहित की जाती है जो एक साथ मिलकर “चेन” बनाते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है? इसके बारे में विस्तार से जाने। 1

यह स्थायी रिकॉर्ड-कीपिंग, रीयल-टाइम लेन-देन, पारदर्शिता और ऑडिटेबिलिटी का एक विलक्षण संयोजन प्रदान करता है। ब्लॉकचेन की एक सटीक प्रति कई कंप्यूटरों या उपयोगकर्त्ताओं में से प्रत्येक के लिये उपलब्ध होती है जो एक नेटवर्क में एक साथ जुड़े हुए होते हैं। नए ब्लॉक के माध्यम से जोड़ी या बदली गई किसी भी नई जानकारी की कुल उपयोगकर्त्ताओं के आधे से अधिक द्वारा जाँच और अनुमोदन किया जाता है।

ब्लॉकचेन तकनीक की उपयोगियता क्या है?

ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी कई प्रक्रियाओं और अनुप्रयोगों में नवाचारों की सुविधा प्रदान कर सकती है, जिसमें डेटा प्रबंधन, भंडारण, पुनर्प्राप्ति, विशाल और महत्त्वपूर्ण जानकारी की सुरक्षा की आवश्यकता होती है। इनमें शामिल हैं – वित्तीय लेन-देन से संबंधित जानकारी का प्रबंधन (जैसे कि क्रिप्टोकरेंसी के मामले में), चुनावी वोटिंग, मेडिकल रिकॉर्ड, शैक्षणिक पाठ, संपत्ति के स्वामित्व के रिकॉर्ड और पेशेवर प्रशंसापत्र। ब्लॉकचेन जैसा विकेंद्रीकृत ढाँचा प्रणाली और उसमें संग्रहीत जानकारी को धोखाधड़ी से बचाता है, पारदर्शी और विश्वसनीय बनाता है.

भारत में क्रिप्टो की वर्तमान स्थिति क्या है?

केंद्रीय बजट 2022-2023 में आने वाले वित्तीय वर्ष में एक डिजिटल मुद्रा पेश करने का भी प्रस्ताव है। फिलहाल भारत में क्रिप्टोकरेंसी को कवर करने वाली कोई विधायिका नहीं है, हालाँकि क्रिप्टोकरेंसी का मालिक होना अब अवैध नहीं है। अब आभासी संपत्ति से होने वाली आय पर 30% कर की घोषणा की गई थी। चीन ने सभी क्रिप्टोकरेंसी लेन-देन को अवैध घोषित कर दिया है एवं प्रभावी रूप से पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है, जबकि अल सल्वाडोर ने बिटकॉइन को कानूनी निविदा के रूप में अनुमति दी है.

  • चूँकि क्रिप्टो एक कानूनी निविदा नहीं है, इसे एक अलग वर्ग के रूप में माना जाना चाहिये, इसलिये सरकार को क्रिप्टो के लिये एक अलग विनियमन की आवश्यकता है।
  • RBI के अनुसार, अगर लोग क्रिप्टो को मुद्रा के रूप में मानना शुरू कर देते हैं तो पीयर-टू-पीयर लेंडिंग का अवसर मिलेगा जिसके लिये स्पष्ट रूप से विनियमन की आवश्यकता होती है।
  • गंभीर समस्याओं को रोकने के लिये एवं यह सुनिश्चित करने के लिये कि क्रिप्टोकरेंसी का दुरुपयोग न हो, साथ ही निवेशकों को बाज़ार की अत्यधिक अस्थिरता और संभावित घोटालों से बचाने के लिये विनियमन आवश्यक है।

एक परिचय ,अर्थव्यवस्था के प्रकारआर्थिक संवृद्धि एवं विकासराष्ट्रीय आय (National Income)भारत में बेरोजगारी की समस्याभारत में नियोजन (Planning in India)राष्ट्रीय विकास परिषद एवं योजनाभारतीय कृषि बीजों का वर्गीकरण फसलचक्रकिसान क्रेडिट कार्ड योजना (KCC)प्रतिरोधक भण्डार (वफर स्टाॅक)कृषि विज्ञान की क्रान्तियाँ (Reeducation of Agriculture)अन्तर्राष्ट्रीय वित्तीय संस्थाएं संगठन (International Financial Institution Trade)विश्व बैंक (World Bank)अन्तर्राष्ट्रीय विकास परिषद् (International Development Association)अन्तर्राष्ट्रीय ऋण समस्या (International Debt Problem)विश्व व्यापार समझौता (WTO Agreement)

संयुक्तराष्ट्र व्यापार एवं विकास सम्मेलन (अंकटाड)अरब साझा बाजार (ACM)नई विदेशी व्यापार नीति 2015-20केन्द्र, राज्य वित्तीय सम्बन्धकेन्द्रीय बजट 2015-16परिमाणात्मक साख नियंत्रण:-म्यूचुअल फण्ड (Mutual funds) , Meaning, concept and Types of Mutual Fundभुगतान शेष (Blance of Payment)अभ्यंस/कोटाविनिमय दरऔद्योगिक अर्थव्यवस्था (Industrial Economy)मुद्रा स्फीति एवं उसके प्रकारप्रधानमंत्री जन धन योजना (पीएमजेडीवाई) क्या है ?प्रति व्यक्ति आय (Per Capita Income -P.C.I.)15वां आयोग वित्त आयोग (15th Finance Commission)

14वें वित्त आयोग से संबंधित तथ्यात्मक विवरणउत्तर प्रदेश का एक जिला एक उत्पाद योजना (One District, One Product)केन्द्रीय बजट 2021-22भारत नवाचार सूचकांक क्या है ? नवाचार सूचकांक 2020-21 रिपोर्ट।Risk o Meter रिस्क ओ मीटर क्या है ?क्रिप्टोकरेंसी क्या है? इसके बारे में विस्तार से जाने।

Leave a Reply

elektroniksigara - antalya haberleri - oyuncu forumu - Türk takipçi al - Orjinal Elektronik Sigara