गांधी युग – कुछ महत्वपूर्ण आन्दोलन

गांधी-दास पैक्ट: नवम्बर 1924 फरवरी 1924 में स्वास्थ्य कारणों से जेल से रिहा होने के पश्चात् नवम्बर 1924 में गांधीजी, सी.आर. दास एवं मोतीलाल नेहरू ने मिलकर एक संयुक्त वक्तव्य प्रस्तुत किया। इसे गांधी-दास पैक्ट के नाम से जाना जाता है। इसकी मुख्य बातों में विधानसभाओं के...

गांधी युग – असहयोग आंदोलन, खिलाफ आंदोलन की समाप्ति

असहयोग आंदोलन, 1920-22 गांधीजी द्वारा असयोग आंदोलन की औपचारिक शुरुआत 1 अगस्त, 1920 को की गयी। असहयोग आंदोलन से सम्बन्धित कार्यक्रमों पर विचार करने के लिए सितम्बर 1920 (कलकत्ता) में कांग्रेस कार्यसमिति का अधिवेशन आयोजित किया गया। गांधीजी द्वारा इसी अधिवेशन में असहयोग...

गांधी युग-रौलट एक्ट,  जलियाँवाला बाग हत्याकांड, खिलाफत आंदोलन

रौलट एक्ट, 1919 अंगेजी शासन के विरूद्ध पनप रहे असंतोष तथा पढ़ती हुई क्रांतिकारी गतिविधियों से प्रभावशाली ढंग से निपटने हेतु लार्ड चेम्सफोर्ड द्वारा किंग्स न्यायपीठ के न्यायाधीश सिडनी रौलट की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया गया। इस समिति का कार्य भारत में क्रांतिकारी...

गांधी युग: 1919-1948

मोहन दास करमचंद गांधी (1869-1948 ई.) 9 जनवरी को दक्षिण अफ्रीका से भारत वापस आए। वे 1893 ई0 में एक भारतीय मुस्लिम व्यापारी दादा अब्दुला का मुकदमा लड़ने दक्षिण अफ्रीका गए थे। वहाॅ पर उन्होंने भारतीयों के साथ हो रहे भेदभावपूर्ण व्यवहार को देखा। एक बार जब वे दक्षिण अफ्रीका...

ब्रिटिश भारत में मजदूर आंदोलन

ब्रिटिश भारत में मजदूर आंदोलन [adToappeareHere] भारत में मजदूर आंदोलन उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्ध में आधुनिक उद्योगों की स्थापना के साथ ही भारत में मजदूर संघों की गतिवधियाॅ एवं उनके अस्थित्व की शुरूआत देखी गई। इस दिशा में सर्वप्रथम कदम था रेलवे का विकास जो आध्ुानिक...

महत्वपूर्ण आंदोलन एवं कुछ महत्वपूर्ण घटनाए

अहरार आंदोलन, 1906 1906 ई. में बंगाल के राष्ट्रवादी मुसलमानों द्वारा इस आंदोलन का आरंभ किया गया। इस आंदोलन का लक्ष्य मुसलमानों की राष्ट्रीय आंदोलन में सहभागियता को प्रोत्साहित करना तथा ब्रिटिश राज्य के प्रति स्वामिभक्ति की भावना को हतोत्साहित करना था। इस आंदोलन का...