ज्वालामुखी (VALCANO) क्या है, और इसके प्रकार

ज्वालामुखी (Valcano) ज्वालामुखी का अर्थ है-जिसके मुख से आग निकलती हो। ज्वालामुखी का संबंध उस गोल छिद्र से है, जिसके द्वारा पृथ्वी के भू-गर्भ से तप्त तरल लावा या मैग्मा, गैस, जल तथा चट्टानों के टुकड़े जो गर्म पदार्थ के रूप में धरातल की सतह पर प्रकट होते हैं ज्वालामुखी कहलाते हैं। जबकि ज्वालामुखी क्रिया

Read More »

पृथ्वी की आन्तरिक सरंचना तथा रासायनिक संगठन

पृथ्वी की आन्तरिक सरंचना पृथ्वी की आन्तरिक संरचना के बारे में जिन साधनों से जानकरी प्राप्त की जाती है, वे इस प्रकार है- 1. अप्राकृतिक साधन-  घनत्व  (Density) – पृथ्वी के ऊपरी भाग का निर्माण परतदार शैलों से हुआ है जिसकी औसत मोटाई लगभग 800 मीटर है। इस भाग का घनत्व 2.9 ग्राम घन सेमी.

Read More »

पृथ्वी देशांतर अपसौर उपसौर क्षुद्र ग्रह

पृथ्वी (Earth) पृथ्वी आकार में सौरमंडल का 5वाँ सबसे बड़ा ग्रह है जबकि सूर्य से दूरी के अनुसार इसका क्रम तीसरा है। पृथ्वी का भूमध्यरेखीय व्यास 12,755 किमी. है। पृथ्वी की भूमध्यरेखीय परिधि 40,076 किमी0 है। पृथ्वी का  ध्रुवीय व्यास 12,712 किमी है। पृथ्वी का ध्रुवीय परिधि 40,008 किमी. है।  पृथ्वी को नीला ग्रह भी

Read More »

सूर्य एवं ग्रह – बुध एवं शुक्र

सूर्य(Sun) सूर्य एक तारा है। सूर्य के धरातल का तापमान 6000अंश से0 पाया जाता है। सूर्य के केन्द्र का तापमान 15 मिलियन डिग्री से0 से अधिक होता है। पृथ्वी से सूर्य की औसत दूरी 14.96 (15) करोड़ किलोमीटर है। सूर्य के प्रकाश की गति 3 लाख कि0मी/से0 है। सूर्य का प्रकाश पृथ्वी के करीब 8

Read More »

भूगोल का परिचय – ब्रह्माण्ड एवं तारे

ब्रह्माण्ड  (THE UNIVERSE) 1. ब्रह्मांड की उत्पत्ति के संदर्भ में सर्वाधिक मान्यता प्राप्त सिद्धान्त बिग बैंग (Big Bang) सिद्धांत है। इसका प्रतिपादन बेल्जियम के खगोलशास्त्री जार्ज लेमेन्तेयर ने किया था। 2. बिग बैंग सिद्धांत के अनुसार आज से 15 अरब वर्ष पूर्व सभी आकाशगंगायें (तारों के पुंज) एक गर्म मूलभूत बिन्दु पर धनीभूत थी जिसमें विस्फोट

Read More »
Scroll to Top