केन्द्र, राज्य वित्तीय सम्बन्ध

केन्द्र, राज्य वित्तीय सम्बन्ध केन्द्र राज्य के बीच दो प्रकार के राजकोषीय असंतुलन पाये जाते हैं। यदि केन्द्र सरकार की आय उसके व्यय से अधिक हो जबकि राज्यों की आय व्यय से कम हो तो इसे उध्र्वाधर असंतुलन कहते हैं। यदि कुछ राज्यों की आय उसके व्यय से अधिक है जबकि कुछ राज्यों की आय

Read More »

नई विदेशी व्यापार नीति 2015-20

नई विदेशी व्यापार नीति 2015-20 भारत सरकार द्वारा नई व्यापारिक नीति 2015-20 के बीच घोषित की गयी इस नई नीति में कुछ महत्वपूर्ण परिवर्तन किये गये जो केवल व्यापारिक नीति के उद्देश्यों से सम्बन्धित थे अपितु विभिन्न योजनाओं से भी सम्बन्धित थे। 1. नई व्यापारिक नीति में भारत के निर्यात का हिस्सा जो वर्ष 2013-14

Read More »

अरब साझा बाजार (ACM)

अरब साझा बाजार (ACM) इसकी स्थापना 1965 ई0 में हुई। इसका मुख्यालय ईराक की राजधानी बगदाद है। इसे यूरोपियन साझा बाजार के आधार पर विकसित किया गया है जिसमे ईराक, मिश्र, सीरिया एवं जापान शामिल हैं परन्तु अब यह अस्तित्वहीन हो चुका है। केन्द्रीय अमेरिकी साझा बाजार स्थापना 1960 ई0 में हुई। यह भी यूरोपियन

Read More »

संयुक्तराष्ट्र व्यापार एवं विकास सम्मेलन (अंकटाड) (Un Conference on Trade And Development UNCTAD) 

संयुक्तराष्ट्र व्यापार एवं विकास सम्मेलन (अंकटाड) (Un Conference on Trade And Development UNCTAD)  संयुक्त राष्ट्र व्यापार और विकास सम्मेलन अंकटाड ;न्छब्ज्।क्द्ध की स्थापना अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष तथा गैट ;ळ।ज्ज्द्ध जैसी अन्तर्राष्ट्रीय संस्थाओं के असंतोषजनक कार्य के कारण 1964 में की गई थी। अंकटाड का मुख्यालय जेनेवा में है। चार वर्ष के अन्तराल पर इसका अधिवेशन

Read More »

विश्व व्यापार समझौता (WTO Agreement)

विश्व व्यापार समझौता (WTO Agreement) उरुग्वे दौर की बहुपक्षीय वार्ताओं के परिणामों पर आधारित WTO के मूलभूत समझौते में निम्न शामिल हैंः 1. वस्तुओं में व्यापार के बहुपक्षीय समझौते। 2. सेवाओं में व्यापार का सामान्य समझौता (GATS) 3. बौद्धिक सम्पत्ति अधिकारों के व्यापार संबंधी समझौता (TRIPS) 4. झगड़ों के निपटान से संबंधित नियमों और प्रक्रियाओं

Read More »

अन्तर्राष्ट्रीय ऋण समस्या (International Debt Problem)

अन्तर्राष्ट्रीय ऋण समस्या (International Debt Problem) अल्पविकसित देशों की विदेशी ऋण की समस्या बहुत गंभीर है क्योंकि वे अपनी विकास की समस्याओं के वित्त प्रबंधन हेतु पूंजी के विदेशों से अंतर्वाह पर निर्भर करते हैं। अल्पविकसित देश गरीब होने के कारण उनकी घरेलू बचत तथा निवेश की दरें कम होती हैं। उनमें आर्थिक तथा सामाजिक

Read More »

अन्तर्राष्ट्रीय विकास परिषद् (International Development Association)

अन्तर्राष्ट्रीय विकास परिषद् (International Development Association) अन्तर्राष्ट्रीय विकास परिषद् अथवा संघ, विश्व बैंक से संबद्ध संस्था है जो 1960 में स्थापित की गई थी। कानूनी और वित्तीय तौर से यह संस्था विश्व बैंक से अलग है परन्तु वास्तव में यह विश्व बैंक की सहयोगी संस्था है। विश्व बैंक का अध्यक्ष ही इसका अध्यक्ष होता है।

Read More »

विश्व बैंक(World Bank)

विश्व बैंक(World Bank) :- अन्तर्राष्ट्रीय पुनर्निमाण एवं विकास बैंकInternational Bank for reconstruction and Development जो विश्व बैंक के नाम से प्रसिद्ध है, का जन्म संयुक्त राष्ट्र संघ के मौद्रिक एवं वित्तीय सम्मेलन का परिणाम है जो 1 जुलाई से 22 जुलाई 1944 तक ब्रेटनवुड्स नामक स्थान पर (अमरीका में) अन्तर्राष्ट्रीय मुद्राकोष तथा विश्व बैंक से

Read More »

अन्तर्राष्ट्रीय वित्तीय संस्थाएं संगठन(International Financial Institution & Trade)

अन्तर्राष्ट्रीय वित्तीय संस्थाएं संगठन (International Financial Institution & Trade) अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार तथा वित्तीय मामलों में प्रभावी सहयोग तथा राष्ट्रों की संतुलित व समन्वित समृद्धि में अन्तर्राष्ट्रीय वित्तीय संगठनों एवं वित्तीय संस्थाओं की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। अल्प विकसित या विकासशील देशों में योजनाओं के क्रियान्वयन तथा भुगतान संतुलन में इसका अमूल्य योगदान है। अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा

Read More »

कृषि विज्ञान की क्रान्तियाँ (Reeducation of Agriculture)

कृषि विज्ञान की क्रान्तियाँ (Reeducation of Agriculture) :- [adToappeareHere] (1) भारत में हरित क्रान्ति (Green Revolution in India) :- नेशनल डेरी रिसर्च इन्स्टीट्यूट की स्थापना 1955 ई0 में कर्नाल हरियााणा में की गई थी। पीली क्रान्ति (Yellow Revolution) :-  कृषि क्षेत्र में अनुसन्धान एवं विकास की अगली कड़ी पीली क्रान्ति है। इसके तहत तिलहन उत्पादन

Read More »
error: Content is protected !!
Scroll to Top